मधुमक्खी पालन से हर्षित आर्थिक समृध्दि की ओर 

छिन्दवाडा// भारत में प्राचीन काल से शहद का एक विशेष महत्व है तथा अब तो भारत ही नहीं विश्व में भी इसकी महत्ता को स्वीकार किया जा चुका है । शहद एकत्रीकरण की भारत में एक प्राचीन परम्परा भी रही है । वर्तमान परिदृश्य में इसकी विश्वव्यापी मांग और लोकप्रियता को देखकर मधुमक्खी पालन का कार्य तेजी से लोकप्रिय होता जा रहा है । बढ़ती जनसंख्या के कारण जब कृषि योग्य भूमि घट रही है ऐसे में कम भूमि पर अधिक उत्पादन करने के लिये उद्यानिकी व मधुमक्खी पालन काफी उपयोगी साबित हो रही है जिससे आय, रोजगार व पर्यावरण में सुधार के साथ ही स्वास्थ्य पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ता है । इसी बात को दृष्टिगत रखते हुये मध्यप्रदेश उद्यानिकी विभाग के कंसल्टटेंट श्री राजबीर सिंह व उप संचालक उद्यानिकी छिन्दवाडा के प्रयासों से जिला मुख्यालय के समीप सोनपुर में लगभग आधा एकड़ में श्री हर्षित साहू ने मधुमक्खी पालन की यूनिट को लगाया है । इसमें मधुमक्खी के 20 बाक्स (कालोनी) है । श्री हर्षित साहू को मधुमक्खी पालन के लिये वर्ष 2018 में 10 लाख रूपये के ऋण की स्वीकृति जारी की गई है और कार्य कम्पलीट होने पर 40 प्रतिशत की अनुदान राशि उसके खाते में  जमा की जायेगी ।  

कलेक्टर श्री जे.के.जैन इस यूनिट को देखने के लिये आज सोनपुर पहुंचे और उन्होंने इस प्रयास की सराहना की । इस दौरान श्री राजबीर सिंह ने बताया कि मधुमक्खी पालन से जहां मधुमक्खी पालन क्षेत्र के आस-पास की फसल में 25 प्रतिशत तक बढ़ोत्तरी हो जाती है, वहीं इस यूनिट से सालाना 5 से 6 लाख रूपये तक का लाभ भी प्राप्त हो सकेगा । कलेक्टर श्री जैन को श्री राजबीर सिंह ने मधुमक्खी पालन के लिये बॉक्सों को खोलकर मधुमक्खी द्वारा शहद निर्माण की प्रक्रिया का अवलोकन भी कराया । श्री हर्षित साहू अपने इस व्यवसाय में आर्थिक समृध्दि की अपार संभावनाओं को देखते हुये बहुत प्रसन्न है और उसकी समुचित देखभाल कर इसे लाभ का धंधा बनाना चाहते है । वे अन्य लोगों को भी इस व्यवसाय के लिये प्रेरित करना चाहते है । इस संबंध में मध्यप्रदेश उद्यानिकी विभाग के कंसल्टटेंट श्री राजबीर सिंह के मोबाईल नं. 9589609530 या 9644664445 पर संपर्क किया जा सकता है ।

Share News

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published.