नई दिल्ली: अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी सरकार  विधानसभा में दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल पर जमकर बरसी और उनसे इस्तीफे की मांग कर डाली. दरअसल आज डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने बुधवार को दिल्ली विधानसभा में LG का रिपोर्ट कार्ड पेश किया. इस दौरान उन्होंने एक के बाद एक बैजल पर कई आरोप लगाए. मनीष सिसोदिया ने सिलसिलेवार तरीके से एलजी की गलतियां गिनाईं. उन्होंने कहा कि एलजी ने हायर एजुकेशन लोन की फाइल 402 दिन तक लटकाई. उन्होंने ये भी कहा कि एलजी से डेनिस अफसर की मांग की गई थी लेकिन उन्होंने चिट्ठी का कोई जवाब नहीं दिया.

  1. मोहल्ला क्लीनिक की फाइल 146 दिन तक लटका कर रखी गई.
  2. ड्यूटी पर तैनात कर्मचारियों की मुत्यु होने पर 1 करोड़ रुपये मुआवजे देने की दिल्ली सरकार की फाइल को अब तक उपराज्यपाल कार्यालय से मंजूरी नही मिली.
  3. नवंबर 2017 में वक़्फ़ बोर्ड के दोबारा गठन के लिए उपराज्यपाल को फ़ाइल भेजी गई थी, इस पर भी अभी तक उपराज्यपाल की मंजूरी नही मिली है.
  4. मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना का मामला पिछले करीब 1 महीने से ज्यादा उपराज्यपाल के पास लंबित है.
  5. 20 फरवरी 2018 को सरकारी अफसरों के स्ट्राइक पर जाने के बाद उपराज्यपाल ने उन पर कोई ठोस कार्रवाई नही की.
  6. 14 मार्च 2018 को राशन के लिए डोर स्टेप डिलीवरी प्रोग्राम की अनुमति की फ़ाइल उपराज्यपाल को भेजी गई थी. फिलहाल उपराज्यपाल ने कुछ आपत्तियां जताते हुए फ़ाइल लटकाई हुई है.
  7. जून 2017 के बाद से कई मामले ऐसे सामने आए जब सूचना और प्रसारण विभाग के डायरेक्टर ने मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री के फेसबुक लाइव, विज्ञापन छापने से इनकार कर दिया. मुख्यमंत्री कार्यालय ने उन्हें हटाने की मांग की थी लेकिन उपराज्यपाल ने इस पर कोई कदम नही उठाया.

इस दौरान सदन में जब मनीष सिसोदिया ने विधानसभा में एलजी के रिपोर्ट कार्ड का आखिरी पैरा पढ़ रहे थे उसी समय सदन में तमाम विधायक हाथों में बैनर लेकर अनिल बैजल के इस्तीफे की मांग करने लगे और जमकर नारेबाजी करने लगे.