महाराष्ट्र में भाजपा को सरकार बनाने का न्योता….

भाजपा और शिवसेना से चल रहे मतभेद व् नौटंकी के चलते महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने प्रदेश में भाजपा को सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते सरकार बनाने का न्यौता दिया . पूर्व सीएम देवेंद्र फड़णवीस को 11 नवंबर सोमवार शाम 8 बजे तक सदन में बहुमत साबित करना होगा .

प्रदेश की सत्ता को लेकर भाजपा और शिवसेना से चल रही सौदेबाजी के बीच महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने भारतीय जनता पार्टी को सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते सरकार बनाने का न्यौता दिया है. पूर्व सीएम देवेंद्र फड़णवीस को 11 नवंबर सोमवार शाम 8 बजे तक सदन में विधायकों की पूर्ण संख्या के साथ बहुमत साबित करना होगा . 11 नवंबर को ही देवेंद्र फड़णवीस शपथ ले सकते हैं. सबसे खास बात है कि भाजपा ने बिना शिवसेना के समर्थन सरकार बनाने का दावा कर रही है. भाजपा के पास कुल 115 विधायक हैं जिनमें 10 निर्दलीय विधायक भी शामिल हैं.

शिवसेना के समर्थन बनेगी बीजेपी की सरकार ? .. सरकार बनाने के लिए राज्यपाल के भाजपा को न्योते मिलने से सूबे की राजनीति में हलचल मच गई है. खास बात है कि लंबी चली लड़ाई के बाद बिना शिवसेना के समर्थन ही देवेंद्र फड़णवीस को सरकार बनाने का न्योता मिला है. जब दोनों पार्टियों ने गठबंधन के साथ चुनाव जीता तो सरकार बनाने के लिए बहुमत था लेकिन अलग होकर भाजपा के पास उसके 105 विधायक और शिवसेना के पास उसके 54 विधायक बचे हैं. ऐसे में दोनों के पास बहुमत नहीं है लेकिन भाजपा अपने विधायकों के साथ राज्य की सबसे बड़ी पार्टी है.  10 निर्दलीय विधायकों का भी उन्हें समर्थन है जिसके बाद कुल संख्या 115 हो जाती है लेकिन इसके बावजूद भी बहुमत का आंकड़ा पार नहीं होता. अब देखना जरूर दिलचस्प होगा कि बहुमत साबित करने के लिए भाजपा बाकी विधायकों का जुगाड़ कैसे करेगी या शिवसेना से ही मामला सुलझ जाएगा ?. क्योंकि कांग्रेस और एनसीपी के भाजपा को समर्थन देने की संभाबना कम ही है ? इसलिए अगर भाजपा पूर्ण बहुमत सरकार चाहती है तो उसे शिवसेना को साथ लेना ही होगा, अगर शिवसेना अपने मुख्यमंत्री दे या फिर भाजपा उनका सीएम बनाने के लिए मान जाए ?अब देखना दिलचस्प होगा की उंट किस करबट बैठता है ?

Share News

You May Also Like