पीएमओ से न्यूज़ रूम में अब फोन पर निर्देश आते हैं – पुण्य प्रसून बाजपेई

नई दिल्ली // जाने-माने पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपेई ने  कहा कि मोदी सरकार आने के बाद देश में पत्रकारिता के हालात बदल गए हैं ,अब संपादक को पता नहीं होता कि कब फोन आ जाए, उन्होंने साफ कहा कि कभी पीएमओ तो कभी किसी मंत्रालय से सीधे फोन आता है, इन फोन कॉल्स में खबरों को लेकर आदेश होते हैं, पुण्य प्रसून बाजपेई पत्रकार आलोक तोमर की स्मृति में आयोजित व्याख्यान में बोल रहे थे !व्याख्यान का विषय था “सत्यातीत पत्रकारिता भारतीय संदर्भ ” पुण्य प्रसून ने कहा कि मीडिया पर सरकारों का दबाव पहले भी था लेकिन पहले एडवाइजरी आया करती थी कि इस खबर को ना दिखाया जाए या इस दंगे से तनाव फैल सकता है ,अब सीधे फोन आता है कि इस खबर को हटा लीजिए!  प्रसून  ने कहा कि जब तक संपादक के नाम से चैनलों को लाइसेंस नहीं मिलेगा , जब तक पत्रकार को अखबार का मालिक बनने की अनिवार्यता नहीं होगी , तब तक कारपोरेट दबाव बना रहेगा !

उन्होंने कहा कि खुद उनके पास प्रधानमंत्री कार्यालय से फोन आते हैं और अधिकारी बकायदा पूछते हैं कि अमूक खबर कहां से आई , यह अफसर धड़ल्ले से सूचनाओं और आंकड़ों का स्रोत पूछते हैं ! प्रसून ने कहा कि अक्सर सरकार की वेबसाइट पर आंकड़े होते हैं लेकिन सरकार को ही नहीं पता होता ! वाजपेई ने कहा कि राजनीतिक पार्टियों के काले धंधे में बाबा भी शामिल है ! बाबा टैक्स फ्री चंदा लेकर नेताओं को पहुंचाते हैं उन्होंने कहा कि जल्द ही वह इसका खुलासा स्क्रीन पर करेंगे ,

कांस्टिट्यूशन क्लब में आयोजित इस कार्यक्रम में राजदीप सरदेसाई भी मौजूद थे उन्होंने कहा कि पत्रकारिता में झूठ की मिलावट बढ़ गई है किसी के पास भी सूचना या जानकारी को जानने और परखने की फुर्सत नहीं है , गलत जानकारिया मीडिया में खबर बन जाती है , उन्होंने कहा कि इसके लिए कारपोरेट असर और टी आर पी  के प्रेशर को दोष देने से पहले पत्रकारों को अपने गिरेबान में झांक कर देखना चाहिए कि हम कितनी ईमानदारी से सच को लेकर सजग है ! सेमिनार में पत्रकार रामबहादुर राय भी मौजूद थे उन्होंने मीडिया आयोग बनाने की मांग की , रामबहादुर राय ने कहा कि उनके पास सूचना है कि किस तरह मीडिया पर कुछ लोगों का एकाधिकार हो रहा है, पत्रकार  उर्मिलेश ने कहा कि धीरे-धीरे पत्रकारिता पूंजीवादी शिकंजे में फंस रही है पत्रकारों को नहीं पता कि अब आजादी रही ही नहीं ,सारी आजादी हड़प ली गई है , उन्होंने कहा कि पत्रकार अज्ञान के आनंद लोक में खुश है और अपनी आजादी खो रहा है !

सौजन्य :-समाचार एजेंसी

Share News

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *