आचार संहिता उल्लंघन का पहला आपराधिक मामला दर्ज ….

विदिशा जिला मुख्यालय पर लोकसभा चुनाव के समय आदर्श आचार संहिता उल्लंघन का पहला आपराधिक मामला सिविल लाइन थाना विदिशा में दर्ज किया गया । मामला बीजेपी के जिला उपाध्यक्ष  राम रघुवंशी के खिलाफ पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के बारे में सोशल मीडिया पर अभद्र और अशोभनीय टिप्पणी करने के आरोप में सिविल लाइन थाना में भारतीय दंड संहिता की धारा 188 और 294 के तहतदर्ज किया गया है ।यह प्रकरण कांग्रेस के महामंत्री देवेंद्र राठौर की रिपोर्ट पर दर्ज किया गया है…वेद प्रकश शर्मा  रिपोर्ट 
विदिशा भारतीय जनता पार्टी के जिला उपाध्यक्ष राम रघुवंशी पर आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन का मामला कांग्रेस नेता देवेंद्र राठौर ने सिविल थाना में दर्ज कराया है ।कांग्रेस नेता देवेंद्र राठौर का कहना है कि राम रघुवंशी ने मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के खिलाफ अभद्र और अशोभनीय टिप्पणी की थी इससे वाह आहत हुए हैं और उन्होंने सिविल लाइन थाने में रिपोर्ट की है।
कांग्रेस के जिला महामंत्री देवेंद्र राठौर ने मीडिया को बताया कि भारतीय जनता पार्टी के जिला उपाध्यक्ष राम रघुवंशी ने मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के संदर्भ में सोशल मीडिया पर एक बहुत अशोभनीय और शर्मनाक टिप्पणी की है और उसका वीडियो शॉट पूरे शहर में कई लोगों को एक दूसरे के माध्यम से दिखाया जा रहा था जब हम लोगों को यह जानकारी मिली तो तो हमने विदिशा सिविल लाइन थाने में उनके विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज कराई है और यह प्रशासन से आग्रह किया है कि इनके विरुद्ध कार्रवाई की जाए

उधर सिविल लाइन थाना विदिशा के टी आई राजेश सिन्हा ने बताया कि फेसबुक पर एक कमेंट को लेकर देवेंद्र सिंह राठौर जो कांग्रेस के सदस्य हैं उनके द्वारा एक आवेदन पत्र प्रस्तुत किया गया है और साथ में पोस्ट राम रघुवंशी द्वारा फेसबुक पर डाली गई थी उसका स्क्रीनशॉट किसी के द्वारा लिया गया था वह भी प्रस्तुत किया गया है इसमें काफी अभद्र भाषा का प्रयोग किया गया है कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह जी के विरुद्ध और उस पर से हमारे द्वारा धारा 188 का प्रकरण दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है विवेचना की जा रही है ।
. वही भाजपा के जिला उपाध्यक्ष राम रघुवंशी का कहना है देश के खिलाफ कोई भी व्यक्ति बोलेगा तो हमारी अभिव्यक्ति की आजादी है ।हम उसके खिलाफ जरूर बोलेंगे। उन्होंने पुलवामा हमले को लेकर पूर्व मुख्यमन्त्री के बयान को लेकर टिप्पणी की है ।

Share News

You May Also Like