कमलनाथ और अशोक गहलोत के नाम पर मुहर ,राज्य मुख्यालय से होगा ऐलान  ……

 upa अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गाँधी ने सुलझाई गुत्थी …………

विधानसभा चुनाव की नतीजे आए 2 दिन हो गए हैं , परंतु तीनों ही राज्य में मुख्यमंत्री को लेकर किसी एक नाम पर सहमति होती नजर नहीं आने पर अब यह खींचतान प्रदेश मुख्यालय से दिल्ली तक पहुंच गई है। 
राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के भावी मुख्यमंत्रियों के नाम पर चिंतन – मंथन का दौर चल रहा है , वही तीनो ही राज्यो के प्रदेश मुख्यालय पर इनके समर्थक जो प्रदर्शन कर रहे हैं उसको लेकर राष्ट्रीय नेतृत्व ऐतराज जता चुके है ।…. 
नई दिल्ली :-पार्टी मुख्यालय सूत्रों से प्राप्त  जानकारी के मुताविक इस तरीके के भोंडे प्रदर्शन से पार्टी की साख पर धक्का लग रहा है । राष्ट्रीय नेतृत्व ने इस तरीके के प्रदर्शन पर अपना ऐतराज जताया है।
पार्टी सूत्रों के अनुसार मध्यप्रदेश की स्थिति साफ हो चुकी है इसमें मुख्य भूमिका upa अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी की रही जिसमे उन्होंने आगामी 2019 के चुनावों व दोनो ही प्रदेश की आर्थिक खस्ता स्थिति के मद्देनजर वरिष्ठ प्रशासनिक अनुभवो को देखते हुए मध्यप्रदेश से कमलनाथ व राजस्थान से अशोक गहलोत के अनुभवो को देखे हुए दिनों ही नेताओ के नाम पर अपनी सहमति जताई है , इसतरह अब सिर्फ दोनों  के नामो की धोषणा की ओपचारिकाता ही बाकी रह गई है !कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी अब से थोड़ी देर बाद ही इन तीनों ही राज्यों के मुख्यमंत्री के नाम पर मोहर लगाने वाले है  ? परन्तु सोनिया जी के सुझाव पर मुख्यमंत्री के नामो का ऐलान दिल्ली से नहीं बल्कि राज्यों के पार्टी मुख्यालयों पर पर्यवेक्षक करेंगे ! इस तरह तस्बीर अब बिलकुल ही साफ़ हो चुकी है  ! कल मुख्यमंत्री की  शपथ कमलनाथ लेंगे ,यह उनके उपर निर्भर करता है की वे शपथ कितने साथियों के साथ कहाँ लेते है ? …………….खबर टीम के साथ राकेश प्रजापति 

Share News

You May Also Like