पटाखों की ब्रिकी पर फैसला कल

देश में दीपावली के समय पटाखों के कारण पर्यावरण पर बहुत बुरा असर पड़ता है और प्रदूषण इतना बढ़ जाता है कि लोगों का जीना दूभर हो जाता है !  पर्यावरण प्रदूषण के चलते पटाखों की बिक्री पर पूरी तरह बैन लगाने से बाली याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट कल फैसला सुनाएगा. 

हाल ही में मद्रास हाईकोर्ट ने ऑनलाइन पटाखों की ब्रिकी पर 15 नंवबर तक के लिए प्रतिबंध लगा दिया है! पिछले साल 2017 में सुप्रीम कोर्ट ने राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली में पटाखों की ब्रिकी पर प्रतिबंध लगा दिया था. आज सोमवार को दिल्ली की हवा की रेटिंग 237 है, जो खतरनाक है. !इन्ही सब को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने आज को कहा कि देश में पटाखे की ब्रिकी पर प्रतिबंध लगाने संबंधी याचिकाओं पर कल मंगलवार को फैसला सुनाएगी.

ज्ञात हो कि दिपावली और शादियों के समय पूरे देश में जमकर आतिशबाजी की जाती है. ध्वनी प्रदूषण के साथ ही प्रकृति और पर्यावरण पर भी इसका प्रतिकुल प्रभाव पड़ता है. आतिशबाजी के कारण हवा में प्रदूषण का स्तर इतना बढ़ जाता है कि सांस लेना मुश्किल होता है. ऐसे में भारत में पटाखे की ब्रिकी बंद कराने संबंधी कई याचिकाएं सुप्रीम कोर्ट में लगाई गई है. पटाखे की ब्रिकी पर प्रतिबंध का मामला प्रकृति के साथ-साथ लाखों लोगों की आजीविका से भी जुड़ा है. भारत में हजारों की संख्या में लोग पटाखे के व्यापार से जुड़े है.

Share News

You May Also Like