अवैध शराब परिवहन करते पकड़ी कार….


महंगी शराब अवैध परिवहन करते पकड़ी कार , चुनाव को लेकर प्रसासन हुआ हाई अलर्ट, जगह जगह लगाए चेक पोस्ट, SST दल 01 सौसर सामुदायिक हॉस्पिटल के पास कार चेकिंग में पकड़ी शराब, 5 लीटर से अधिक महंगी शराब जप्त ,१२ बोतलों की कीमत लगभग 26 हजार 400 रुपयों से ऊपर की बताई जा रही है,  ….

प्रदेश में विधान सभा चुनावों के चलते आदर्श आचार संहिता लगी है तब से चुनाव को लेकर जिले भर का पुलिस अमला सक्रिय हो गया है ,इससे अबैधानिक गतिविधियों में लिप्त लोग एक एक करके पुलिस की गिरफ्त में आ रहे है ,इसी तारतम्य में आज दोपहर चैकिंग के दौरान सौसर पुलिस ने एक कार के अंदर रखी अबैध अंग्रेजी शराब की खेप पकड़ी जो तस्करी के तहत महाराष्ट्र जा रही थी !

पुलिस ने बताया की छिदवाड़ा से सौसर महाराष्ट सीमा तक कई चेक पोस्ट बनाये गए है जिसमे sst दलो के माध्यम से गाड़ियों की चेकिंग की जा रही है कल शाम सौसर पेट्रोल पम्प के पास के चेक पोस्ट के पास छिंदवाड़ा से नागपुर जा रही कार क्रमांक MP 20 CG 1001 छिंदवाड़ा निवासी के नाम पर है!उक्त वाहन  मनोज महदोले नामक व्यक्ति चला रहा था चेकिंग के दौरान 12 नग महंगी शराब जिसकी बाजार कीमत लगभग 26हजार 400 रुपये है, sst दल द्वारा जप्त की गई,  इस दौरान तहसीलदार डॉ अजय भूषण शुक्ला, आबकारी निरक्षक कश्यप,सौसर थाना प्रभारी अर्चना जाट उपस्थित थे ।

अब सबाल यह  उठता है की जिले भर में विधानसभा वार सीमा पर वाहनों के चैकिंग बेरियर लगाये गये है तो उक्त वाहन छिन्दवाड़ा से सौसर कैसे पहुच गई या पहुचाई गई किसके इसारे से  ? और पकड़ी गई शराब किसकी है और कहाँ से खरीदी गई ? उक्त शराब ठेकेदार पर भी कारवाही होनी चाहिए ?

सूत्र बताते है की आबकारी विभाग के संरक्षण ने अबैध अंग्रेजी शराब की तस्करी बहुत दिनों से चल रही है ,इसके लिए सम्बन्धित अधिकारियों को अच्छी खासी निछावर मिलती है ,सूत्र बताते है की उसके पीछे की कहानी कुछ इस तरह है की महंगी अंगरेजी शराब के ब्रांड में नकली और मिलावटी शराब पैक कर बड़ी मात्रा में महाराष्ट्र और छत्तिसगड भेजी जाति है इससे शराब तस्करों को अच्छा मुनाफा होता है !

विभागीय सूत्र बताते है की बरसों से आबकारी अधिकारी द्वारा एक भी सैम्पल नही लिए और ना ही किसी की जांच ही करवाई है ? जबकि समय समय पर मिलावटी शराब के अनेको खबरे समाचार विभिन्न माध्यमो से संज्ञान में लाये जा चुके है ? इससे इनके गठजोड़ के रिश्ते साफ़ झलकते है ?  इस तरह मदिरा प्रेमियों के जेब की सामूहिक लूट और उसका आपसी बटवारे में मोटी रकम आबकारी तक पहुंचती है ? तो फिर काहे की कार्यवाही ?

Share News

You May Also Like