चिकित्सीय लापरवाही से हुआ नेमा जी का निधन..

🔹 परिजनों ने बताया डायलेसिस मशीन की नली से जमीन पर बह रहा था खून, फर्श बन गया था खून का तालाब ,
🔹 खून की कमी से हुई होगी मृत्यु
अमरवाड़ा // मेन रोड फव्वारा चौक पर स्थित श्याम जनरल स्टोर के संचालक श्याम नेमां को किडनी में इंफेक्शन होने से समय-समय पर डायलिसिस की आवश्यकता पड़ती रही इसी तारतम में मंगलवार को दोपहर 2:00 बजे श्याम सेठ अपनी धर्म पत्नी के साथ निजी कार कार चालक के संग छिंदवाड़ा पहुंचे
छिंदवाड़ा पहुंचने के पश्चात परासिया रोड स्थित एक प्राइवेट हॉस्पिटल जिसमें डायलिसिस करने का संयंत्र अभी अभी कुछ दिनों पहले प्रारंभ किया गया है डायलिसिस प्रक्रिया से गुर्दा में आय संक्रमण को दूर करने के लिए रक्त फिल्टर रेशन हेतु महत्वपूर्ण डायलिसिस कक्ष में श्याम नेमां को ले जाया गया प्रारंभिक प्रक्रिया में पहले श्याम ने माता ब्लड प्रेशर शुगर एवं जांच कर संतुष्ट होने के उपरांत चिकित्सक के द्वारा उन्हें डायलिसिस कक्ष में लिटाया गया प्रक्रिया रक्त शोधन प्रारंभ की गई श्याम सेठ की धर्मपत्नी को बाहर बैठने के लिए कहकर मात्र श्याम नेमा और मशीन के अलावा उस कक्ष में कोई नहीं था मशीन ने अपना काम करना शुरू किया धीरे धीरे समय बीतता गया  सफाई कर्मी महिला ने बताया डॉक्टर को शाम होने के पूर्व इस कक्ष में अस्पताल में नियमित कार्य करने वाली महिला आई और उसने देखा कि कक्ष में फर्श पर लबालब खून भरा हुआ है और श्याम नेमां की गर्दन एक और लटकी पड़ी है देखी तो डॉक्टर डॉक्टर चिल्लाई कि कक्ष के डॉक्टर डॉक्टर टेक्नीशियन कंपाउंडर और श्याम नेमा की धर्मपत्नी चालक और परिजन एकत्रित हो गए कथित रूप की मशीन से निकली हुई नली जो शरीर में रक्त पहुंचाती है वह नली निकली हुई फर्श पर पड़ी थी जिससे मशीन और शरीर का पूरा रक्त फर्श में इकट्ठा हो गया*यह दृश्य देखकर अस्पताल में अफरा तफरी का माहौल बन गया श्रीमती मालती नेमा ने जाकर अपने पुत्र मनीष एवं परिजनों को बुलाया  जब तक श्याम नगर की मृत्यु हो चुकी थी ,चिकित्सक भरोसा दिलाते रहे कि ठीक है श्याम नेमा -श्याम नेमा की मृत्यु होने के पश्चात भी चिकित्सक किस बात का विश्वास दिलाते रहे श्याम नेमा ठीक हैं थोड़ा बहुत खून बहा है अभी आप उनके बॉटल की व्यवस्था करें तो हम खून चढ़ा देंगे परिजनों ने खून की व्यवस्था की खून लाया गया लेकिन तब तक श्याम  प्राण पखेरू उड़ चुके थे
परिजनों ने लगाया लापरवाही का आरोप – स्वर्गीय श्याम नेमां के परिजनों ने हॉस्पिटल प्रबंध पर डॉक्टर पर लापरवाही का आरोप लगाया कि डॉ अच्छी तरीके से मशीन की नली को शरीर पर सेट नहीं किया जिससे नली निकल गई और पूरा खून वह गया और शरीर में खून की कमी हो गई जिसके कारण मृत्यु हुई उसके बावजूद भी डॉक्टर हमें दिलासा देते रहे कि आप खून लेकर आइए हम खून चढ़ा देते हैं
नगर में छाई शोक की लहर सात 8:00 बजे के बीच श्याम नेमां के शव को प्राइवेट एंबुलेंस कर अमरवाड़ा लाया गया नगर में शोक की लहर उपरोक्त बातें श्याम नगर के परिजन उत्तम मनीष राजकुमार आदि ने रो-रो कर बताया ज्ञात रहेगी श्याम नेमा समाज के शहर के प्रतिष्ठित मिलनसार लोकप्रिय व्यक्तित्व के धनी एवं उनकी अच्छे व्यवसायी में गिनती थी  बुधवार को अंतिम यात्रा में सभी वर्ग के लोगों ने उपस्थित होकर भावभीनी श्रद्धांजलि दी श्याम नेम अपने पीछे पत्नी-पुत्र पुत्री एवं भाई को बेसहारा छोड़ गए

Share News

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *