प्रदेश में कम हो सकते है पेट्रोल-डीजल के दाम ….

इन दिनों पेट्रोल-डीजल की कीमत अब तक के सबसे उच्चतम स्तर पर पहुंच गई  है! आज मंगलवार को भोपाल में पेट्रोल 85.11 रुपए और डीजल 75.23 रुपए प्रति लीटर बिकेगा। सोमवार के मुकाबले पेट्रोल 17 पैसे और डीजल 20 पैसे महंगा हो गया है। तीन महीने पहले 29 मई को पेट्रोल के दाम सबसे ज्यादा 84.10 रुपए प्रति लीटर थे….

देश के अन्य राज्यों की तुलना में मध्य प्रदेश में सबसे महंगा पेट्रोल बिक रहा है, लगातार बढ़ती कीमतों के कारण विरोध के स्वर उठने लगे है।वही विपक्ष भी चुनावी साल में इस मुद्दे को भुनाने में लगा हुआ है। लगातार बढ़ते दबाव के चलते सरकार कीमतों में कमी करने पर विचार कर रही है। मप्र के वित्त और वाणिज्यिक कर मंत्री जयंत मलैया ने इसके संकेत दिए है। उन्होंने कहना है कि अंतर्राष्ट्रीय बाजार में पैदा हुए हालात के कारण पेट्रोल डीजल की कीमतें बढ़ रही है। हालांकि दामों की कमी के लिए सरकार गंभीरता से विचार कर रही है। उम्मीद की जा रही है कि जल्द ही सरकार बड़ी  राहत दे सकती है।

दरअसल, बीते दिनों वितमंत्री ने वैट घटाने से इंकार कर दिया था।उन्होंने कहा था कि राज्य सरकार पेट्रोल-डीजल से वैट नहीं घटाएगी।हालांकि उन्होंने पेट्रोल-डीजल को Gst के दायरे में लाने की बात कही थी, लेकिन अंतिम फैसला केंद्र सरकार करेगी। वही कांग्रेस इसे मुद्दे बना कर सरकार को घेरने में लगी हुई है।साथ ही लोगों में भी बढ़ती कीमतों को लेकर रोष व्याप्त हो गया है। इधर, चुंकी इस साल नंवबर में चुनाव होना और समय कम बचा है,ऐसे में सरकार कोई खतरा मोल लेना नही चाहती, इसलिए कीमतों को घटाने पर विचार कर रही है।उम्मीद है सरकार अगले हफ्ते तक जनता को एक बड़ी राहत दे सकती है।

 आज मंगलवार को भोपाल में पेट्रोल 85.11 रुपए और डीजल 75.23 रुपए प्रति लीटर बिकेगा। सोमवार के मुकाबले पेट्रोल 17 पैसे और डीजल 20 पैसे महंगा हो गया है। तीन महीने पहले 29 मई को पेट्रोल के दाम सबसे ज्यादा 84.10 रुपए प्रति लीटर थे।

गौरतलब है कि पिछले साल अक्टूबर में केंद्र सरकार के दबाव के बाद राज्य ने पेट्रोल से तीन प्रतिशत और डीजल से पांच प्रतिशत वैट कम किया था। इससे हर महीने मप्र को 80 करोड़ रुपए का राजस्व नुकसान होने लगा था। राज्य सरकार पेट्रोल पर 28 प्रतिशत वैट, एक प्रतिशत सैस और 4 रुपए प्रति लीटर एडिशनल टैक्स लेती है। वहीं, डीजल पर 22 प्रतिशत वैट और एक प्रतिशत सैस लेती है। 2014-15 में मप्र सरकार ने पेट्रोल-डीजल पर वैट से 6 हजार 504 करोड़ रुपए राजस्व आमदनी की थी। यह आय 2015-16 में 7 हजार 213 करोड़, 2016-17 में 8 हजार 903 करोड़ और 2017-18 में 9 हजार 252 करोड़ रुपए हो गई। अगर बात करें पिछले एक महीने की तो एमपी में इतने समय में सवा दो रुपए पेट्रोल पर दाम बढ़ चुका है। पिछले महीने 31 जुलाई को पेट्रोल की कीमत 82 रुपए प्रति लीटर थी, जो पूरे एक महीने बाद यानि 31 अगस्त को 84.26 रुपए प्रति लीटर पर जा पहुंचा है।

Share News

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published.