वरिष्ठ पत्रकार कुलदीप नैयर का निधन, रात 12ः30 बजे ली अंतिम सांस

भारत के वरिष्ठ पत्रकारों में से एक कुलदीप नैयर का निधन दिल्ली के अस्पताल में हो गया. कई दिनों से बीमार चल रहे कुलदीप नैयर आईसीयू में भर्ती थे रात करीब 12ः30 बजे उन्होंने आखिरी सांस ली. नैयर को कई पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है. उनका अंतिम संस्कार आज दोपहर लोधी रोड के पास घाट पर किया जाएगा..

भारतीय पत्रकारिता के बेहद अहम चेहरों में से एक वरिष्ठ पत्रकार कुलदीप नैयर का 95 साल की उम्र में आज निधन हो गया. बीते दिल्ली के एक अस्पताल में आईसीयू में भर्ती नैयर ने रात करीब 12ः30 आखिरी सांस ली. कुलदीप नैयर की तबियत पिछले काफी दिनों से खराब चल रही थी. आज दोपहर करीब एक बजे लोधी रोड स्थित घाट पर उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा. कुलदीप नैयर पत्रकारिता के जाने-मानें चेहरों में से एक थे. दिल्ली के एक अस्पताल में उन्होंने आखिरी सांस ली.

कुलदीप नैयर पत्रकार को थे ही साथ ही उन्होंने कई किताबें लिखीं. नैयर भारत सरकार के प्रेस सूचना अधिकारी के पद पर कई वर्षों तक रहे. जिसके बाद वह यू.एन.आई, पी.आई.बी., द स्टेट्समैन, द इंडियन एक्सप्रेस जैसे जाने-माने मीडिया संस्थानों से जुड़े रहे. साथ ही उन्होंने द टाइम्स लंदन के साथ 25 वर्षों तक बतौर संवाददाता भी काम किया. नैयर को पत्रकारिता के लिए अवार्ड से भी नवाजा गया. 23 नवम्बर, 2015 को उन्हें रामनाथ गोयनका पुरस्कार से सम्मानित किया गया.  साथ ही नैयर अगस्त, 1997 में राज्यसभा के मनोनीत सदस्य के रूप में निर्वाचित किए गए.

कुलदीप नैयर ने पत्रकारिता की शुरुआत उर्दू प्रेस रिपोर्टर के रूप में की थी. दिल्ली के अखबार द स्टेट्समैन के संपादक रह चुके कुलदीप नैयर को आपातकाल के अंत में गिरफ्तार भी किया गया था. कुलदीप नैयर साल 1996 में संयुक्त राष्ट्र के लिए भारत के प्रतिनिधिमंडल के सदस्य भी रहे. कुलदीप नैयर डेक्कन हेराल्ड, द डेली स्टार, द संडे गार्जियन, द न्यूज, द स्टेट्समैन, द एक्सप्रेस ट्रिब्यून पाकिस्तान, डॉन पाकिस्तान सहित 80 से ज्यादा अखबारों के लिए 14 भाषाओं और ऐप-एड लिखते रहे

Share News

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published.