अंतिम दर्शन के बाद कल राज घाट में दाह संस्कार….

कल लगभग देड बजे दोपहर से उनके निवास से अंतिम यात्रा .. पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने 93 साल की उम्र में दिल्ली के एम्स अस्पताल में अंतिम सांस ली हैं. अटल जी डिमेंशिया नामक बीमारी से पीड़ित थे. अटल जी के निधन से पूरे देश में शोक की लहर दौड़ गई है.

देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का लंबी बीमारी के बाद आज निधन हो गया है. 93 वर्षीय अटल बिहारी वाजपेयी ने दिल्ली के एम्स अस्पताल में आखिरी सांस ली है. अटल बिहारी वाजपेयी डिमेंशिया नामक बीमारी से पीड़ित थे और बीते 11 दिनों से अस्पताल में भर्ती थे. पिछले कुछ घंटों से अटल जी की हालत नाजुक होने के कारण उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया था.

गौरतलब है कि अटल बिहार वाजपेयी का जन्म 25 दिसंबर साल 1994 में मध्य प्रदेश के ग्वालियर में हुआ था. अटल जी एक मध्यमवर्गीय ब्राह्मण से ताल्लुक रखते थे. इनके पिता कृष्णा बिहारी वाजपेयी एक शिक्षक और कवि थे. अटल जी ने शुरुआती शिक्षा ग्वालियर से प्राप्त की. जिसके बाद कानपुर के एंग्लो-वैदिक कॉलेज से राजनीतिक विज्ञान में ग्रेजुएशन पूरा किया.

साल 1939 में अटल जी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के कार्यकर्ता बने. साल 1957 में अटल जी ने बलराम लोकसभा से चुनाव लड़ा और संसद पहुंच गए. साल 1977 में अटल जी मोरारजी देसाई के नेतृत्व में बनी सरकार में विदेश मंत्री बने. साल 1980 अटल बिहारी वाजपेयी ने भैरो सिंह शेखावत, लाल कृष्ण आडवाणी और जनसंघ के कुछ नेताओं के साथ मिलकर भारतीय जनता पार्टी का गठन किया.

साल 1996 में हुए आम चुनावों के बाद अटल जी ने देश के 10वें प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ ली. हालांकि अटल जी के नेतृत्व की सरकार महज 13 दिन ही चल सकी. साल 1998 में अटल जी ने एक बार फिर पीएम की शपथ ली. हालांकि इस बार भी अटल जी की सरकार 13 महीने चल सकी. साल 1999 के लोकसभा में एक बार एनडीए की सरकार बनी और अटल जी ने पीएम पद की शपथ ली. अटल जी साल 1999 से 2004 तक देश के प्रधानमंत्री रहे. 2004 के आम चुनावों में कांग्रेस पार्टी को जीत मिली थी.

Share News

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published.