82 मिनट के भाषण में मॉब लिंचिंग, गिरता रुपया और शिक्षा पर pm की चुप्पी ..

72वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर लाल किले की प्राचीर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एनडीए सरकार की उपलब्धियां गिनवाईं लेकिन पीएम मोदी मॉब लिंचिंग, शिक्षा और गिरते हुए रुपये के स्तर पर खामोश रहे.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 72वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर लाल किले की प्राचीर देश को संबोधित किया. पीएम मोदी ने अपने संबोधन में एनडीए सरकार की उपलब्धियां गिनाई. पीएम मोदी ने अपने भाषण में अर्थव्यवस्था, कृषि, मुद्रा योजना, जम्मू-कश्मीर, तीन तलाक, सड़क सहित नॉर्थ-ईस्ट का जिक्र किया. इसके अलावा पीएम मोदी ने अपने भाषण हर घर में शौचालय, सस्ती स्वास्थ्य सेवा, प्रत्येक नागरिक के लिए बीमा का सुरक्षा कवच, बिजली कनेक्शन, पानी, धुआं मुक्त रसोई जैसी मूलभूत जरूरतों की बात कही. इन सबके अलावा कुछ ऐसे मुद्दे रहे जिनपर पीएम मोदी चुप्पी साध ली.

पीएम मोदी का भाषण उन परिवारों के लिए निराशाजनक साबित हुआ जिनके परिजन मॉब लिंचिंग का शिकार हुए. इन पीड़ित परिवारों को उम्मीद थी कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश में बढ़ती मॉब लिंचिंग की घटनाओं जरुर बोलेंगे लेकिन पीएम मोदी इन मॉब लिंचिंग पर कुछ भी नहीं कहा. इसके अलावा पीएम मोदी रुपए के गिरते पर भी चुप रहे. पिछले कुछ समय से डॉलर के मुकाबले रुपया कमजोर हुआ है. अपने भाषण के दौरान तमाम उपलब्धिया गिनाने वाले पीएम मोदी शिक्षा के मुद्दे पर भी खामोश रहे.

पीएम मोदी ने अपने भाषण में कांग्रेस सरकार पर भी निशाना साधा. उन्होंने ऑप्टिक फाइबर का जिक्र करते हुए कहा जिस तरह से 2013 में ऑप्टिकल फाइबर बनाने का काम चल रहा था उस रफ्तार से देश को ऑप्टिकल फाइबर से जोड़ने के लिए पीढ़ियां गुजर जातीं.

जहां तक देश में बात मॉब लिंचिंग की है तो 2015 से लेकर 2018 तक दर्जनों लोगों को अपनी जान गंवाना पड़ा. नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के मुताबिक साल 2018 में अब तक 15 लोगों को जान से हाथ धोना पड़ा है. आंकड़े इस बात के गवाहीं हैं कि केंद्र में एनडीए की सरकार आने के बाद देश में मॉब लिंचिंग की घटनाएं बढ़ी हैं. उपद्रवी भीड़ ने बीफ या गाय को जाने के शक में दर्जनों लोगों को मौत के घाट उतार दिया.

Share News

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published.