मै जिस दिन धंधा करूंगी उस दिन कहूंगी देह व्यापार लीगलाइज हो : DCW चीफ स्वाती मालीवाल

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल जयहिंद ने देह व्यापार को लीगलाइज करने की बात करने वालों को मुहंतोड़ जवाब दिया है. DCW चीफ स्वाती मालीवाल ने वेश्वावृत्ति को कानूनी अमली जामा पहनाए जाने के सवाल पर कहा कि जिस दिन मैं धंधा करूंगी उस दिन कहूंगी ये लीगलाइज हो ..

दो दिन पहले रेस्क्यू ऑपरेशन कर पहाड़गंज के एक होटल से 39 नेपाली लड़कियों को छुड़ाने वाली दिल्ली महिला आयोग (DCW) की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल जयहिंद ने अपने जवाब से वेश्‍यावृत्ति‍ को लीगलाइज की मांग करने वालों की बोलती बंद कर दी है. स्वाति मालीवाल ने एक निजी न्यूज चैनल  को दिए अपने इंटरव्यू में कहा है कि जब मैं धंधा नहीं कर सकती, मैं 30 आदमियों के साथ नहीं रह सकती तो मैं ये कैसे करू कि वो महिलाएं रहें ?

मालीवाल ने कहा कि जिस दिन मैं धंधा करने लगूंगी उस दिन कहूंगी कि देह-व्यापार को कानूनी अमली जामा पहनाइए. स्वाति ने कहा कि हम नौकरी करें, अच्छे काम करें, जिनके पास पैसे हैं वो बड़े-बड़े काम करें लेकिन जो देश का गरीब है उसको आप वेश्यावृत्ति और तस्करी में भेजें और बाद में कहें कि ये भी तो काम है. इसे लीगलाइज कीजिए.

स्वाति मालिवाल ने वेश्यावृत्ति को लीगलाइज करने वालों से तीखा सवाल करते हुए कहा है कि क्या आप अपनी बेटी को धंधे वाली बनाओगे ? जब आप अपनी बेटी को धंधे वाली नहीं बना सकते तो देश की गरीब महिला वहां क्यों पहुंचे? क्यों जीबी रोड में काम करें. इसके साथ उन्होंने दिल्ली के जीबी रोड पर चल रही वेश्वायवृत्ति को खत्म करने की मांग करते हुए कहा कि मानव तस्करी को रोकने के लिए कड़ी कार्रवाई की जरूरत है.

स्वाति मालीवाल ने कहा ने पहाड़गंज से छुड़ाई गई लड़कियों के बारे में कहा कि मैं चाहूंग की जीबी रोड से निकाली गई ये लड़कियों के लिए हमने पुनर्वास योजना बनाई है. उसे लागू करने में दिल्ली सरकार के साथ-साथ केंद्र सरकार व दिल्ली नगर निगम उनकी मदद करे. ताकि इन लड़कियों का पुनर्वास किया जा सके और उनकी जिंदगी बचाई जा सके. दिल्ली के जीबी रोड में देह व्यापार को लेकर कहा कि यह बहुत दुखदायी है. एक-एक महिला को 30-30 लोगों के साथ सोना पड़ता है. दूर-दूर से लड़कियों का लाकर बेचा जाता है.

Share News

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *