प्रदेश में आज भी किराए पर मिलती है बीबियाँ..

मध्य प्रदेश के आज भी इस गांव में 10 रुपये के स्टांप किराए पर देते हैं पत्नी, परंपरा के नाम पर होता है देह व्यापार
महिला उत्पीड़न रोकने के लिए कड़े कानून हैं. इसके बावजूद मध्य प्रदेश के एक गांव में महिलाओं को जानवरों की तरह बेचा-खरीदा जाता है. कोई भी व्यक्ति महिला की बोली लगाकर दस रुपये के स्टांप पर महिला को किराए पर ले जा सकता है. महिलाओं को उनके पति ही दूसरे व्यक्तियों को किराए पर देते हैं.
आज हम भले ही अपने आप को आधुनिक मानते हों. महिलाओं के उत्थान के लिए बहुत सारी सरकारी योजनाएं हैं. ढेरों एनजीओ भी महिला उत्थान के लिए काम कर रहे हैं लेकिन मध्य प्रदेश के एक गांव में सरेआम लड़कियों और महिलाओं की खरीद फरोख्त होती है. मध्य प्रदेश के शिवपुरी गांव में महिलाओं को मात्र 10 रुपये के स्टांप पर बेचा जाता है. आज के डिजिटल जमाने में भी अंधविश्वास के कारण महिलाओं को सिर्फ मौज मस्ती का सामान समझा जाता है.
इस गांव में लड़कियों की रीति रिवाज के साथ शादी नहीं होती. इसके बजाय उन्हें 10 रुपये के स्टांप पेपर पर अनुबंध कर कारोबारियों को किराए पर दिया जाता है. यह अनुबंध एक दिन, एक महीना या एक साल तक का हो सकता है. जब किराए पर लेने वाले का मन भर जाए या टाइम पूरा हो जाए तो वह वापस उन्हें घर भेज देता है. इसके बाद उसका जो मालिक होता है वह दूसरे किसी व्यक्ति को किराए पर दे देता है.
मध्य प्रदेश एकमात्र ऐसा राज्य नहीं है जहां महिलाओं को ऐसे अत्याचार का सामना करना पड़ रहा है. गुजरात में एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी को 8000 रुपये प्रति माह किराए पर एक व्यापारी को बेच दिया था. इंडिया डॉट कॉम की एक रिपोर्ट के मुताबिक, देश में कई जगहें हैं जहां आदिवासी अमीरों के साथ अनुबंध करते हैं और अपनी पत्नियों को बेचते हैं. सौदों को ज्यादातर ब्रोकरों द्वारा किया जाता है जो आम तौर पर सौदे का सबसे बड़ा हिस्सा लेते हैं और महिला के पति अथवा मालिक को बहुत कम पैसा हाथ में आता है.
पिछले कुछ सालों से, महिलाओं के खिलाफ अपराध बढ़ रहे हैं. पट्टे पर दी गई महिलाओं को शोषण का सामना करना पड़ता है. इनकी जिंदगी एक के बाद एक ग्राहकों को संतुष्ट करने में ही गुजर जाती है. सरकारी प्रयास भी इस वेश्यावृत्ति को रोक नहीं पाता क्योंकि गांव वाले परंपरा के नाम पर अड़ जाते हैं. ऐसे में इसे रोकना टेड़ी खीर बना हुआ है. समय है कि इसे तुरंत बंद कर महिलाओं की खरीद फरोख्त करने वालों पर कार्रवाई हो.
साभार :- 0नखबर टीम
Share News

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published.