हंगामे के चलते कार्यवाही पूरे दिन के लिए स्थगित …..

कांग्रेस विधायकों ने विधानसभा के बाहर जमकर नारेबाजी की है। भाजपा सरकार को घेरने के लिए कांग्रेस ने कई मुददे खड़े किए

मानसून सत्र की जैसी उम्मीद की जा रही थी, वैसी ही हंगामेदार शुरुआत हुई है। हंगामे के चलते अध्यक्ष द्वारा विधानसभा कल मंगलवार तक के लिए स्थगित कर दी गई। इससे पहले कांग्रेस विधायक नारेबाजी करते हुए विधानसभा के अंदर घुसे और मंदसौर गोलीकांड के पर्चे लहराने लगे। कांग्रेस नेताओं ने मंदसौर गोलीकांड की रिपोर्ट को लेकर सवाल खड़े किए। हंगामे के बीच ही सदन में कांग्रेस विधायक राम निवास रावत ने शिवराज सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश किया और आसंदी से अनुमति मांगी। विधानसभा स्पीकर ने कहा कि विपक्ष की सूचना पर प्रस्ताव को चर्चा में लेने पर विचार होगा।

– जैसे ही सत्र की कार्यवाही शुरू हुई सरकार ने एक के बाद 17 विधेयक सदन में पेश कर दिए। इसके साथ ही सात अध्यादेश रखे गए हैं। अनुपूरक बजट पर विधानसभा में मंगलवार को चर्चा होगी। इसमें अनुपूरक बजट भी शामिल था। इसके बाद सदन में कांग्रेसी विधायक हंगामा करते रहे और अध्यक्ष ने सदन की कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित कर दी गई।

– विधानसभा में कांग्रेस ने भाजपा सरकार से पांच साल का हिसाब मांगा है। नेता प्रतिपक्ष ने मानसून सत्र की अवधि बढ़ाने की मांग की है। कांग्रेस ने सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश किया है। इसे देखते हुए मानसून सत्र बढ़ाए जाने की मांग की गई है।

– कांग्रेस विधायकों ने विधानसभा के बाहर जमकर नारेबाजी की है। भाजपा सरकार को घेरने के लिए कांग्रेस ने कई मुददे खड़े किए हैं। सरकार मानसून सत्र में 8 हजार करोड़ रुपए का अनुपूरक बजट पेश किया गया।

– कांग्रेस विधायकों ने सदन के बाहर मंदसौर के किसानों को न्याय दिलाएं।

इन मुद्दों पर घेरेगी कांग्रेस :-  नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह द्वारा विधानसभा को सौंपे गए अविश्वास प्रस्ताव में प्रमुख रूप से ई-टेंडरिंग घोटाले समेत प्रदेश में कुपोषण की भयावह स्थिति, महिलाओं पर बढ़ रहे अत्याचार, किसानों द्वारा लगातार की जा रही आत्महत्या, उद्यानिकी विभाग में हुए घोटाले, प्रदेश में महंगी बिजली खरीदी, नर्मदा सेवा यात्रा और प्याज घोटाले का जिक्र है। इसके साथ ही कर्ज में डूबे प्रदेश को भी अविश्वास प्रस्ताव में शामिल किया गया है।

– विधानसभा अध्यक्ष डा. सीतासरन शर्मा की अनुमति के बाद विधानसभा सचिवालय ने अविश्वास प्रस्ताव में लगाए गए आरोपों को जवाब देने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को भेज दिया है।

– सत्तारूढ़ दल सोमवार को विधानसभा में अनुपूरक बजट रखेगी जिस पर मंगलवार को चर्चा होना प्रस्तावित है।

– नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने कहा कि विपक्ष सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लेकर आ रही है, जो कि जनता के मन में सरकार के विरुद्ध पनपे अविश्वास की अभिव्यक्ति है। इस प्रस्ताव के द्वारा विपक्ष सरकार से उसकी नाकामियों पर जवाब तलब करेगा।

इस विधानसभा का आखिरी सत्र :-  इस वर्ष के अंत में होने वाले विधानसभा चुनावों के मद्देनजर यह सत्र मौजूदा विधानसभा का अंतिम सत्र है। सत्र के लिए अभी तक सचिवालय को 1376 प्रश्न, 236 ध्यानाकर्षण, 3 स्थगन, 17 अशासकीय संकल्प और 36 शून्यकाल की सूचनाओं के अलावा पंद्रह याचिकाएं प्राप्त हुईं हैं।

कोई आरोप लगाए तो खूब करो टोका-टाकी : शिवराज

– भाजपा विधायक दल की बैठक में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सभी विधायकों को साफ कर दिया है कि कांग्रेस झूठे आरोप लगाती है। अविश्वास प्रस्ताव दिया है, उसका सदन में जमकर विरोध करना है। हर आरोप पर चुपचाप न बैठें, बीच-बीच में पुरजोर तरीके से टोका-टाकी करें। मुखर हो कर जवाब दें।

– विपक्ष के आरोपों को सुनना नहीं है। मुख्यमंत्री बैठक में देर से पहुंचे। इससे पहले भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व सीएम की जनआशीर्वाद यात्रा के प्रभारी प्रभात झा ने यात्रा के बारे में और संगठन महामंत्री सुहास भगत ने सोशल मीडिया को लेकर अपनी बात रखी।

सत्र की अवधि बढ़ाने की मांग की है : अजय सिंह

– नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने कहा कि यह सत्र कम दिनों का है, हमने इसकी अवधि बढ़ाने की मांग की है। जितने भी दिन मिले हैं, उनमें जनहित के मुद्दों को विधानसभा में तथ्‍यों के साथ उठाना है। भाजपा सरकार ने कभी भी सत्र को पूरा नहीं होने दिया। वे व्यवधान पैदा करेंगे और हमे पूरे संयम के साथ अविश्वास प्रस्ताव, किसानों पर हुई गोलीकांड की जांच रिपोर्ट और अन्य मुद्दों पर सरकार को दम खम से घेरने की तैयारी रखनी है।

Share News

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published.