कांग्रेस सरकार से पिछले पांच साल का हिसाब किताब मांगेगी….

कमलनाथ ने कहा सत्र को 10 दिन और बढ़ाना चाहिए, 15 सालो मैं मुद्दों की कमी नहीं है, सरकार से पिछले पांच सालो का हिसाब मांगेंगे

 मध्य प्रदेश विधानसभा का मानसून सत्र सोमवार से शुरू होगा। जिसमे सरकार करीब एक दर्जन से ज्यादा विधेयक लाने जा रही है। वहीं कांग्रेस सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाएगी| सदन में सरकार को घेरने के लिए आज कांग्रेस विधायक दल की बैठक हुई जिसमे प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने विधायकों से कहा हमें हर स्थिति में सदन के अंदर और बाहर जनता के मुद्दों पर चर्चा कर सरकार से जवाब मांगने की तैयारी करना है। कमलनाथ ने कहां कि यह चतुर्दश विधानसभा का आखरी सत्र है। इसलिए विपक्ष में होने के नाते हमारा दायित्व है कि हम सरकार से पिछले पांच साल का हिसाब किताब मांगे।

आगामी विधानसभा चुनाव से पहले का यह सत्र 25 से 29 जून तक चलेगा। पांच दिवसीय सत्र में पांच बैठकें होंगी। कम दिन के सत्र पर कमलनाथ ने कहा सत्र को 10 दिन और बढ़ाना चाहिए, 15 सालो मैं मुद्दों की कमी नहीं है, सरकार से पिछले पांच सालो का हिसाब मांगेंगे| वहीं नेता प्रतिपक्ष ने जानकारी देते हुए बताया कि अविश्वास प्रस्ताव में सौपे गए आरोप पत्र में कुछ मंत्रियो के खिलाफ भी मामले हैं|  सदन में जनता की आवाज उठाने की कोशिश होगी|

मप्र में जैसे हालात..ऐसा कहीं नहीं देखा :- विधानसभा सत्र के शुरू होने से एक दिन पहले हुई कांग्रेस विधायक दल की बैठक हुई | जिसमे पीसीसी चीफ कमलनाथ, नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह, उपनेता बाला बच्चन, मुख्य सचेतक रामनिवास राव सहित 50 विधायक उपस्थित थे। बैठक में कमलनाथ ने विधायकों को सम्बोधित करते हुए कहा अविश्वास प्रस्ताव एक माध्यम से जिसके जरिए हम सरकार से जवाब मांग सकते है। उन्होंने कहा कि मैंने ऐसी राजनतिक परिस्थिति कभी नहीं देखी जैसी मध्यप्रदेश में है। जहां हर वर्ग परेशान है, चाहे वह किसान हो, गरीब हो, कर्मचारी हो, नौजवान हो, दलित आदिवासी हो, महिलाएं हो या मजदूर हो। उन्होंने कहा कि हमारी मांग होना चाहिए विधानसभा का सत्र पांच दिन और बढ़ाया जाए ताकि जनता के मुद्दों पर पूरी तरह से चर्चा हो सके। उन्होंने कहा कि यह लोग जवाब देने से हमेशा कतराते है क्योंकि इनके पास जवाब देने के लिए कुछ होता नहीं है। यहीं कारण है कि यह अविश्वास प्रस्ताव से भागते नजर आ रहे है।

गोलीकांड की रिपोर्ट को जोर शोर से उठाये :- कमलनाथ ने कहा मुख्यमंत्री ने पिछले छः माह में हजारों करोड़ रूपये की घोषणाएं की हैं हमे विधानसभा के माध्यम से सरकार से यह जवाब मांगना चाहिए कि इन घोषणाओं के लिए उन्होंने कितनी राशि का बजट में प्रावधान किया है। उन्होंने कहा कि हमे मुखर होकर जनता के बीच जाकर सरकार की नाकामयाबियों को बताना चाहिए।   मंदसौर जिले के पिपल्या मंडी में 06 जून 2017 को हुए गोलीकांड पर गठित जांच आयोग की रिपोर्ट पर भी विधानसभा में पूरे जोर शोर से मामले उठाए।

Share News

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *