प्रदेश पर करोड़ों का कर्ज और ‘जन आशीर्वाद यात्रा’ ….

सत्ता पर पुनः काबिज होने के लिए शिवराज सरकार कोई कोर कसर नही छोड़ रही है ,चाहे उसे किसी भी हद तक जाना क्यों ना पड़े ? इन्ही सब के चलते युद्ध स्तर पर प्रदेश भर में यात्राओं, आयोजनों, अभियानों व सम्मेलनों के नाम पर  जनता के पैसों का उपयोग अपनी राजनीती चमकने पानी की तरह लुटाया जा रहा है !

इसी तारतम्य में  शिवराज सिह चौहान जन आशीर्वाद यात्रा निकालने जा रहे है जिसकी शुरुआत उज्जैन से राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह द्वारा की जाएगी। जिसकों लेकर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने सवाल उठाए है। उन्होंने कहा है कि यात्राओं, आयोजनों, अभियानों व सम्मेलनों के नाम पर प्रदेश के ख़ज़ाने के करोड़ों रुपये लुटा चुके प्रदेश के आयोजन प्रेमी मुख्यमंत्री शिवराज चुनावी वर्ष को देखते हुए 14 जुलाई से एक और यात्रा ‘‘जन आशीर्वाद यात्रा“ निकालने जा रहे है।एक बार फिर इस यात्रा के नाम पर जनता की गाढ़ी कमाई के करोड़ों रुपये लुटाये जायेंगे। करोड़ों रुपये, इसके प्रचार-प्रसार से लेकर यात्रा के नाम पर लुटा दिये जायेंगे। यह यात्रा, चुनावी वर्ष में भाजपा के प्रचार-प्रसार की यात्रा है। इसलिये इस यात्रा के लिये सरकारी धन व संसाधन का उपयोग, पूरी तरह से जनता के पैसे की बर्बादी व नियम विरुद्ध है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस जानना चाहती है कि आखिर शिवराज सिंह ने पिछले 13 वर्ष की सरकार में ऐसा क्या कर दिया, जिसके लिये जनता उन्हें आशीर्वाद दे। शिवराज ने जनता के लिये यदि काम किये होते तो उन्हें जन आशीर्वाद के लिये यात्रा निकालने की आवश्यकता ही नहीं पढ़ना चाहिये। इस यात्रा को लेकर सरकारी स्तर पर व्यापक तैयारियाँ की जा रही है। सरकारी अधिकारियों-कर्मचारियों को यात्रा को सफल बनाने के लिये व्यापक दिशा-निर्देश देने का कार्य प्रारंभ हो चुका है। यह यात्रा पूरी तरह से भाजपा के प्रचार-प्रसार के लिये है, इसलिये इसके लिये सरकारी ख़र्च व संसाधन का उपयोग, पूरी तरह से जनता के पैसे का दुरुपयोग है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश पहले से ही 1 लाख 60 हज़ार से अधिक के क़र्ज़ में डूबा हुआ है और क़र्ज़ को लेकर प्रदेश की स्थिति दिन-प्रतिदिन भयावह होती जा रही है। कांग्रेस इस यात्रा की चुनाव आयोग को शिकायत करेगी।पहले भी नर्मदा सेवा यात्रा हो या पौधारोपण अभियान या वैचारिक महाकुंभ का आयोजन हो या एकात्म यात्रा हो या जनकल्याण योजना सम्मेलन हो, इन आयोजनों के नाम पर जमकर सरकारी ख़ज़ाने को लुटाया गया और यह आयोजन सिर्फ अपने राजनैतिक फ़ायदे के लिये, भाजपा के प्रचार-प्रसार के आयोजन बन कर रह गये। जनता को तो इन आयोजनों का कोई फ़ायदा नहीं हुआ लेकिन भाजपा अपना प्रचार-प्रसार करने में सफल रही है।

उन्होंने कहा कि एक बार फिर इस यात्रा के नाम पर पूरी सरकार को झोंक दिया जायेगा। शासकीय अधिकारियों, कर्मचारियों की ड्यूटी इस यात्रा को सफल बनाने के लिये लगा दी जायेगी। प्रचार-प्रसार से लेकर यात्रा के नाम पर करोड़ों रुपये, सरकारी ख़ज़ाने से लुटा दिये जायेंगे। यात्रा की आड़ में जमकर भाजपा का प्रचार-प्रसार किया जायेगा। पूर्व से ही क़र्ज़ के बोझ में डूबे प्रदेश को और क़र्ज़ के दलदल में ढकेल दिया जायेगा। यदि शिवराज को चुनावी वर्ष में यात्रा निकालनी ही है तो उन्हें इसे भाजपा के बैनर व ख़र्च पर निकालना चाहिये ना कि सरकारी स्तर पर। जनता की गाड़ी कमाई के पैसे को अपने राजनैतिक फ़ायदे व प्रचार-प्रसार के लिये लुटाने का हक़ किसी को नहीं है। कांग्रेस इस यात्रा कि पोल जनता के बीच खोलेगी व जनता के बीच शिवराज की यात्राओं, अभियानों, आयोजनांे, सम्मेलनों की असलियत ले जायेगी कि किस प्रकार इन आयोजनो के नाम पर सरकारी ख़ज़ाने को जमकर चुना लगाया गया।

Share News

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published.