खरबूज ने बनाया लखपति ……

उन्नत तकनीकी से खरबूज की खेती से नामदेव पवार को मिला 7.50 लाख रूपये का शुध्द लाभ… 

वर्तमान ने परम्परागत खेती किसानी करना जोखिमो से भरपूर कार्य है किसान भाइयो के सामने अनेकानेक चुनौतिया मुहं बाएँ  खड़ी रहती है जिसका सामना करना हर किसी किसान के बूते की बात नही रह गई है ! इसलिए किसानो को आधुनिक और अन्त्र्वर्तिया फसले और बाय प्रोडक्ट का उपयोग कर अतिरिक्त आय के साधनों को ध्यान में रखते हुए खेती करना चाहिए , ऐसा नही है की किसान ऐसा  नही कर रहे है जो किसान ऐसा कर रहे है वःह समाज व्अ न्य  किसानो के लिए प्रेरणा का स्रोत बनकर समाज के सामने आ रहे है !

ऐसा ही कुछ कर दिखाया है छिन्दवाड़ाजिले के परासिया विकासखंड के ग्राम रिधौरा के प्रगतिशील कृषक  नामदेव पवार पिता गोण्डू पवार उन्नत तकनीकी से उद्यानिकी फसलों की खेती कर अपनी कृषि को लाभ का धंधा बना चुके है । इस वर्ष खरबूज की फसल ने उन्हें 7 लाख 50 हजार रूपये का शुध्द लाभ दिलाकर आर्थिक रूप से समृध्द कर दिया है ।  नामदेव पवार और उनका परिवार अब बहुत अच्छी तरह से जीवन यापन कर रहा है ।

      ग्राम रिधौरा के प्रगतिशील कृषक नामदेव पवार के पास 3.221 हैक्टेयर भूमि है जिसमें से वे साल भर 3 हैक्टेयर भूमि में खरीफ, रबी और बाकि में उद्यानिकी फसल लेते है । सिंचाई के लिये उनके पास ट्यूबवेल की सुविधा है तथा वर्ष 2010-11 में उद्यानिकी विभाग के माध्यम से ड्रिप सयंत्र लगाने और विभाग से उन्नत तकनीकी एवं मार्गदर्शन प्राप्त कर उद्यानिकी फसलों की खेती कर अब अच्छे से उत्पादन कर रहे है । खेती के लिये वे ट्रेक्टर, रोटावेटर, पोटेटो प्लांटर, कल्टीवेटर आदि यंत्रों और मल्चिंग का उपयोग करते है । आलू, प्याज, तरबूज और खरबूज की फसल विशेष रूप से लेते है ।

कृषक नामदेव पवार ने बताया कि खरबूज की फसल 60 से 65 दिनों में पककर तैयार हो जाती है, इसलिये वर्तमान में उन्होंने ड्रिप सिस्टम और मल्चिंग का उपयोग करते हुये 7.50 एकड़ में खरबूज की फसल लगाई है जिसमें प्रति एकड़ 60 हजार रूपये की लागत आई है । इस फसल से प्रति एकड़ 16 से 18 टन खरबूज का उत्पादन हुआ है जिसकी औसत विक्रय दर 10 रूपये प्रति किलोग्राम के मान से प्रति एकड़ एक लाख 60 हजार रूपये की दर से 7.50 एकड़ में प्राप्त उपज की बिक्री पर 12 लाख रूपये की राशि प्राप्त हुई है जिसमें से लागत राशि 4 लाख 50 रूपये घटाने पर 7 लाख 50 हजार रूपये की शुध्द आय मिली है । प्रगतिशील कृषक  नामदेव पवार उद्यानिकी फसल की इस खेती के लाभ से अत्यंत प्रसन्न है और अन्य कृषकों को भी उन्नत तकनीकी से उद्यानिकी फसलों की खेती के प्रति प्रेरित कर रहे है ।

Share News

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published.