संबित पात्रा के विरुद्ध  FIR दर्ज हो ….

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी को मार डालने वाला पत्र संबित पात्रा तक कैसे पहुंचा,पात्रा के विरुद्ध  FIR
दर्ज की जानी चाहिए,
मप्र कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता  के.के.मिश्रा ने जारी बयान में कहा है कि निःसंदेह देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को स्व.राजीव गांधी की तरह मारने की साजिश का पर्दाफाश होने का मामला बहुत गंभीर व चिंतनीय है।कांग्रेस पार्टी ने आतंकवाद से संघर्ष करते हुए प्रधानमंत्री के रूप में आदरणीया श्रीमती इंदिरा गांधी, श्री राजीव गांधी,पंजाब में पूर्व मुख्यमंत्री श्री बेअन्तसिंह,पूर्व राष्ट्रपति श्री शंकरदयाल शर्मा की पुत्री – दामाद गीतांजलि-अजय माकन जी का बलिदान देखा है।लिहाजा,किसी प्रधानमंत्री से सम्बद्ध यह मसला अतिगंभीर है।
    श्री मिश्रा ने कहा किइससे कहीं अधिक गंभीर मुद्दा यह भी है कि भीमा – कोरेगांव हिंसा में गिरफ्तार माओवादी के घर से बरामद इस विषयक पत्र भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता श्री संबित पात्रा के पास कैसे पहुंचा ? यह दस्तावेज अपराध से संबंधित दस्तावेज का एक  अति गोपनीय हिस्सा है,जिसे सिर्फ जांच अधिकारी या संबंधित जज ही देख सकता है।यही नहीं ऐसे  महत्वपूर्ण दस्तावेज का सार्वजनिक किया जाना ” शासकीय गुप्त बात अधिनियम  की धारा -5 का स्पष्ट उल्लंघन, संज्ञेय और गैर जमानती जुर्म है।जिसमें 3 साल की सजा का प्रावधान है।यहाँ यह उल्लेख भी प्रासंगिक है कि ऐसे दस्तावेजों को सूचना का अधिकार कानून- 2005 के तहत भी आवेदक को भी नहीं दिया जा सकता है”।
    ऐसे सख्त प्रावधानों के बाद यह अति गोपनीय-महत्वपूर्ण दस्तावेज श्री पात्रा के पास कैसे पहुंचा ! चूंकि मामला प्रधानमंत्री जी को मार डालने से संबंधित है,इसलिए इसे गंभीरता से लेकर जांच एजेंसी को इससे सम्बद्ध सच्चाई सार्वजनिक कर  श्री पात्रा के विरुद्ध एफआईआर दर्ज करना चाहिए,ताकि यह स्पष्ट हो सके कि इस बड़ी साजिश में भी कौन-कौन शामिल है।
Share News

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *