बावरिया के बयान पर बवाल.. यादवो मे नाराजगी….


चुनाव से पहले ही कांग्रेस पार्टी में विवादों के बाद्ल घने होते जा रहे है , गुटबाजी की बात अब तक की जा रही थी वो अब खुलकर सामने आ रही है !

लम्बे समय से सत्ता से बाहर कांग्रेस वापसी के सपने देख रही है| क्यूंकि तीन बार से सत्ता में काबिज भाजपा सरकार के खिलाफ लोगो में आक्रोश है और इस गुस्से का फायदा कांग्रेस को मिल सकता है| लेकिन चुनाव से पहले ही पार्टी में विवादों का अम्बार है| एक के बाद एक विवाद सामने आ रह हैं| जिस गुटबाजी की बात अब तक की जा रही थी वो अब खुलकर सामने आ गई और फेरबदल के बाद से ही नाराज एक खेमे में हलचल मची है, और इस्तीफों का दौर चल रहा है| इस बीच प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया के बयान से बवाल खड़ा हो गया है| हफ्ते भर पहले कांग्रेस के महेश्वर के कार्यकर्ताओं के साथ हुई कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया की बातचीत तूल पकड़ गई है। दरअसल बाबरिया ने महेश्वर से आए कांग्रेस कार्यकर्ताओं से बोल दिया था “यादवो के आपस में लड़ने पर भगवान श्रीकृष्ण भी नहीं बचा पाए थे, आप लोग भी लड़ो ,अपनी सीट भी नहीं बचा पाओगे।” इस विवाद के बाद कांग्रेस के ब्लॉक अध्यक्ष अर्जुन सिंह ,नपा अध्यक्ष हेमंत जैन सहित कई कार्यकर्ता निष्कासित कर दिए गए थे ।हालांकि इन सब का निष्कासन वापस हो गया है  क्योंकि इन्होंने लिखित में माफी मांग ली थी। लेकिन बावरिया के इस बयान को किसी ने रिकॉर्ड कर ऊपर तक पहुंचा दिया है जिसके बाद अब बावरिया बैकफुट पर आ गए हैं। बावरिया पहली बार ऐसी असहज स्थिति में फंसे हुए ऐसा नहीं है। पहले भी बाबरिया विधानसभा टिकट के लिए 50000 रू जमा करने की बात कह कर और 60 साल से ऊपर के व्यक्ति को विधानसभा टिकट न दिए जाने की बात कह कर विवादों में फंस चुके हैं ।अब ऐसे में ,जब अरुण यादव को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद से हटाए जाने के बाद यादवों का एक बड़ा धड़ा असंतुष्ट है, बावरिया का यह बयान जख्मों पर मरहम छिड़कने के बजाय नमक छिड़कने जैसा है, जिसका नुकसान बावरिया सहित पार्टी को भी झेलना पड़ सकता है|

याद्वो

Share News

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published.