छिन्दवाड़ा जिले के बच्चे ने जमा कराए 1 करोड़ रुपये ….

बालपन में ही बच्चो में संस्कारो से साथ- साथ बचत करने की आदते डाली जाय तो बच्चा बड़े होकर फिजूल खर्ची की बिमारी से निजात पा सकता है और अपना अपने परिवार के साथ देश और समाज के लिए अनुकरणीय उदाहरण प्रस्तुत कर  सकता है !
इसी के चलते मध्यप्रदेश सरकार ने बर्ष 2007 में स्मॉल सेविंग योजना ‘अरुणोदय गुल्लक योजना’ को लॉन्च किया था। यह योजना छिंदवाड़ा जिले में जबरदस्त सफल हुई। इस योजना के तहत छिंदवाड़ा के बच्चों ने पिछले 11 साल से अपने गुल्लक यानी पिग्गी बैंक में जमा पैसे को सरकार की इस योजना में जमा कराए हैं। छिंदवाड़ा जिला कॉपरेटिव बैंक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (ceo) कृष्णकुमार सोनी ने कहा कि जिले के 6000 बच्चे इस योजना से जुड़े हैं और उन्होंने अब तक 26 कॉपरेटिव बैंकों के विभिन्न शाखाओं में इस योजना के तहत 1 करोड़ रुपये जमा कराए हैं। 
 उन्होंने कहा कि बैंक जमा पूंजी के आधार पर बच्चों को उच्च शिक्षा अध्ययन, बिजनेस शुरू करने, शादी और जीवन के अन्य लक्ष्यों के लिए लोन भी देगी। इस योजना के तहत बच्चों के माता-पिता बच्चे के जन्म पर महज एक रुपये से पिग्गी बैंक बचत खाता खोल सकते हैं। खाता खोलने के बाद बच्चों को दो चाबी के साथ एक गुल्लक दिया जाता है। एक चाबी खाता धारक के पास होती है जबकि दूसरा संबंधित बैंक के पास।

पिग्गी बैंक पैसे जमा करने के लिए प्रत्येक महीने खोला जाता है और यह बैंक खाता बच्चे और उसके माता-पिता संयुक्त होता है। इस योजना के तहत 8 फीसदी के दर से ब्याज भी दिया जाता है। पिग्गी खाते में 2000 और 5000 रुपये जमा होने पर यह फिक्स्ड डिपॉजिट में बदल जाता है और इससे बच्चों को सबसे ज्यादा ब्याज मिलता है।

Share News

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published.