फूलो से महकी जिंदगी इनकी ….

आधुनिक खेती और नई तकनीकी बना फायदे का धंधा  ,जरबेरा फूल बना फायदे का व्यवसाय

छिन्दवाडा/ / जिले के मोहखेड विकासखंड के गाडरवाडा निवासी कृषक प्रगतशील श्री शरद सिंह चौहान ने वर्ष 2015-16 में उद्यानिकी विभाग से अनुदान सहायता प्राप्त कर 4 हजार वर्गमीटर में पॉली हाउस का निर्माण किया जिसकी लागत 58 लाख रूपये आई व शासन से 28 लाख रूपये की अनुदान प्राप्त किया । पॉली हाउस के अंदर जरबेरा फूलों के 25 हजार पौधे लगाये गये जिसका 65 दिन के बाद से फूलों का उत्पादन मिलना चालू हो गया । कृषक को प्रति वर्ष साढ़े सात लाख फूलों के स्टिक प्राप्त होती है जिसका मार्केट रेट प्रति स्टिक 5 रूपये के आस-पास होता है । इस तरह से एक वर्ष में 37 लाख 50 हजार रूपये प्रति वर्ष आमदनी होती है । मजदूरी या अन्य खर्चे काटकर किसान को शुध्द 27 लाख 50 हजार रूपये की आमदनी प्राप्त हुई है । इसी प्रकार से वर्ष 2017-18 में भी करीबन 45 लाख रूपये के आस-पास हुई जिसका किसान के बताये अनुसार मजदूरी व अन्य आदान सामग्री पर लगभग 10 लाख रूपये खर्चा आया है । किसान को इस तरह फूलों की खेती बड़ी ही फायदे का व्यवसाय साबित हुआ है । ठीक उसी प्रकार से 2018-19 में भी लगभग 35 लाख रूपये की आमदनी होने की संभावना बताई गई जिससे किसान ने अन्य दो पॉली हाउस बनाने की तैयारी कर ली है । किसान का मानना है कि फूलों की व्यवसायिक खेती नई-नई तकनीकी के माध्यम से की जाये तो यह फायदे का व्यवसाय है । श्री चौहान अपने उत्पाद को नागपुर के मंडियों में पहुंचाते है साथ ही फूलों की सुंदरता व साईज के कारण जरबेरा फूलों की मांग दिनो दिन बढ़ती जा रही है ।

Share News

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *