सूरत :- 2013 में नाबालिग से बलात्कार के मामले में बुधवार को आसाराम को दोषी करार देते हुए स्पेशल कोर्ट के जज मधुसूदन शर्मा ने आजीवन कारावास की सजा सुना दी है तो दूसरी तरफ आज आसाराम के बेटे नाराणय साईं की कोर्ट में पेशी है. नारायण पर सूरत की दो बहनों ने रेप का आरोप लगाया था. जिसमें आसाराम का नाम भी शामिल था. नारायण साईं की पेशी बुधवार को ही होनी थी लेकिन पुलिस ने सुरक्षा का हवाला देते हुए कोर्ट में गुरुवार को पेशी की अपील की थी जिसको कोर्ट ने स्वीकार कर लिया था.

आसाराम के बेटे नारायण साईं पर सूरत की दो बहनों ने बलात्कार का आरोप लगाया था. जिसके बाद से नारायण साईं पिछले चार साल से सूरत की लाजपोर जेल में बंद है. मामले में पीड़िता की बहन ने रेप का आरोप लगाया था. मामला 10 साल पुराना है जिसमें पीड़िता के बयान और सबूतों के आधार पर पुलिस ने नारायण साईं के खिलाफ केस दर्ज कर उसे गिरफ्तार किया था.

दो बहनों द्वारा रेप की शिकायत किए जाने के बाद पुलिस ने एफआईआर लिखी जिसके बाद से ही नारायण साईं अंडरग्राउंड हो गया था. जिसके दो महीने बाद ही उसको दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर के पास से गिरफ्तार कर लिया गया था. पुलिस की नजरों से बचने के लिए नारायण साईं ने एक सिख का भेष धारण कर रखा था. इस मामले में नारायण साईं ने गिरफ्तारी से बचने के लिए करोड़ों की रिश्वत देने की भी कोशिश की थी. जिसमें एक इंस्पेक्टर को भी गिरफ्तार किया गया था। साभार :- इनखबर टीम